Sunday, 2 October 2016

Talash

दिन के पहरों में
कई दोपहरों में
ढूंढा तुझे
जूनून में
रास्तों पर
जिनका न
पता कोई

कभी मिली
कहानी के
किरदारों में
शबाहत तेरी
कभी गीत में
गाया तुझको
तेरे ख्याल
की बारिशों ने
भिगोया मुझको

सोच के
दरीचों से झाँका
कभी बनाया ख़ाका*
कभी पूरा
कभी अधूरा सा

तेरे आस्ताने*
पर पहुंचे
और लौटे
खाली हाथ
न तू मिला
न दीदार तेरा
न सुराग़ कोई

मायूस बे-आस
रूह की आवाज़
मेरे साईं
मौला मेरे
मुझे मिलता नहीं
तेरा निशान
और
कहना तेरा
है तू ही तू
और कुछ नहीं
तेरे सिवा
मैं नाकामी
के अंधेरो में
तेरी रौशनी की
जुस्तुजू में
तेरी तलाश में ....                                                                                                             Din ke peharo me
Kai dopaharo me
Dhoonda tujhe
Junoon me
Rasto par
Jinka na
Pata koi

Kabhi mili
Kahani ke
Kirdaro me
Shabahat teri
Kabhi geet me
Gaaya tujhko
Tere khayal
Ki barisho ne
Bhigoya mujhko
Soch ke
Daricho se jhaanka
Kabhi banaya Khaaka*
Kabhi poora 
Kabhi adhoora sa

Tere astane*
Par pahunche
Aur laute
Khaali hath
Na Tu mila
Na deedar Tera
Na suragh koi

Mayoos be-aas
Rooh ki awaaz
Mere Saieen
Maula mere
Mujhe milta nahi
Tera nishan
Aur
Kehna Tera
Hai Tu hi Tu
Aur kuch nahi
Tere siwa..
Main nakami
Ke andhero me
Teri roshni ki
Justuju me
Teri Talash me....

*Khaaka- Sketch
*Astana- Abode

No comments:

Post a Comment