Saturday, 17 September 2016

Rapture*

विजदान* में
अँधेरी रात के
कोयले से लिखे थे
पानी पर कुछ अल्फ़ाज़ ..

कभी चाँद की रौशनी में
पानी पर लिखी तहरीरें*
तारों सी चमकती हैं
और कभी
दिन की रौशनी
लफ्ज़ो की सियाही को
ऐसे गुम कर देती है
के नहीं रहती
कोई निशानी कहीं ..

कभी ऐसी रोशनाई*
से लिखा कुछ लफ्ज़ो को
वोह
बुलबुलों की शकल में
पानी की सतह पर
उभरे और डूब गए
और कभी
दिल में हो गए
रक़म* ऐसे
जैसे
गोदने* का  निशान

Wijdan* me
Andheri raat ke
Koyele se Likhe the
Paani par kuch Alfaz..

Kabhi Chand ki roshni me
Paani par likhi tehreeren*
Taaron si chamakti hain

Aur Kabhi
Din ki roshni
Lafzo ki siyahi ko
Aise goom kar deti hai
Ke nahi rehti
Koi Nishani kahin..

Kabhi Aisi roshnayi*
Se likha kuch Lafzo ko
Woh
Bulbulo ki shakal me
Paani ki satah par
Ubhre aur doob gaye

Aur Kabhi
Dil me ho gaye
Raqam* aise
Jaise
Godne ka nishan*

(*Wijdan/Rapture - the self lost through possession/love,consumed by another) 
(*Tehreeren- Text)
(*Roshnayi- Colored Ink)
(*Raqam- Chronicled )
(*Godne ka nishan- Tattoo)

No comments:

Post a Comment