Monday, 13 March 2017

Siyaah Raat Ka Sitara


गहरी सियाह रात में
आँखों को जब
अंधेरे की आदत हो जाए..
तब कभी कभी 
इबारतें* उतरती हैं
वही** की तरह.. 
कभी पास आ बैठती हैं
चुपके से 
सखी की तरह.. 
कोई पुरानी बात याद आए
कुछ जुगनू सा चमक जाए ..
सियाह रात में 
वो नूर का हाला*** था
वो तेरे नाम का
इक सितारा था!


Gehri syaah raat me
ankhon ko jab 
andhere ki aadat ho jaaye ..
tab kabhi kabhi 
ibaratein* utarti hain 
wahi** ki tarah
kabhi paas aa baithein 
chupke se 
sakhi ki tarah..
koi purani baat yaad aaye
kuch jugnu sa chamak jaaye
siyaah raat me
woh noor ka haala tha
woh tere naam ka.. 
ek sitara tha! 

                                                                                                                                    



* Lines
**divine revelations
***circle of light

No comments:

Post a Comment