Saturday, 31 December 2016

Yamuna

                                                                                                                                         वो जो दरिया था..
वो उतर गया यारों
उसके घाट पर जलते मुरदों की निशानियां
उनमें कहीं कुछ उसकी भी थी कहानीयां
  जो सबके गुनाहों को धोया उसने 
 तो सब में खुद को खोया उसने
दिन ने जो सूरज की धूप का आईना चमकाया
पानी का चेहरा उसमें कुछ और भी धुंधलाया
दरिया तो अपने चांद से भी शर्मिंदा था 
उसमें उसका अक्स अब कहां जिंदा था
दरिया का ज़ख़्म बड़ा गहरा था
दरिया अब बेहिस बेबेहरा था
बरसात में गुज़रते बादलों ने
उस पर कभी जिंदगी बरसाई थी 
मगर यह मेहरबानी  दरिया के लिए नाकाफी थी
पानी को प्यास तो जन्मों की थी
दिल दरिया का मर गया था
वो जो दरिया था 
वो कब का उतर गया था !





Woh jo dariya tha...
Woh utar gaya yaaron
Uske ghaat par jalte murdo ki nishaniyan
Unme kahin uski bhi thi kahaniyan
Sabke gunahon ko jo dhoya usne
Sab me kuch-kuch khudko khoya usne
Din ne dhoop ka aaina chamkaya
Chehra pani ka aur bhi dhundlaya
Dariya chand se bhi sharminda tha
Usme uska aks ab kahan zinda tha
Uska zakham bada gehra tha
Wo ab awara behiss* bebehra* tha
Guzarte Barsaat ke badal ne
Kabhi Meherbani ki thi
Kabhi usko zindagi di thi
Par ye pyaas Janmo ki thi!
Dil Dariya ka to kab ka mar gaya tha
Woh jo dariya tha
Woh kab ka Utar gaya tha!                                                                                          
                                                                                                                                 

*बेहिस / behiss- emotionless
*बेबेहरा / bebehra-not bothered

No comments:

Post a Comment