Saturday, 7 January 2017

7th January


Subah piggy back karte hue
Ankh ka khulna
Tahaffuz* dene wale hathon ko
Tham kar chalna
Ankhon me mohabbat aisi
Ke dunya ki sab mohabbaton ka
Kam aur jhoota lagna

Faiz aur Firaq ki baatein sunna
Rafi, Manna Dey se lekar SD aur RD ke kisse
Movies ko binge watch karna
Mushairon aur mausiqi ko nasamajhte hue
wah wah karna
Din ke diye ke bujhte hi
Intezar karna nayi Kitab,risalon,comics ke sath mithai/fruits ka
Lalach aur darr se achhe bachche banne ki acting karna
To kabhi unke Cigarettes ke dhuen ko peete hue
Chupke se sab ki shikayat karna
Hamesha thoda sa unka jhoota
Unki plate se chakha karna
Phir ek din....
Har yaad ka ajnabi ho jana
Us buland awaz ki khamoshi sunna
Aur bebasi dekhna
Unka bas dekhte rehna
Kisi yaad ke chamakne par
Un ankhon me malaal dekhna
Un honthon ke lams*ko
Hatheli par ab bhi mehsoos karna
Humko apni yaadon ka bandi banakar
7 January ko unka azaad ho jana!
                 
सुबह पिग्गी बैक करते हुए
आंख का खुलना
तहफ्फुज देने वाले हाथों को 
थाम कर चलना
आंखों में मुहब्बत ऐसी कि
दुनिया की सब मुहब्बतों का
कम और झूठा लगना

फैज़ और फिराक की बातें सुनना 
रफी मन्ना डे से लेकर SD,RD के किस्से 
मूवीज को बिंज वाच करना 
मुशायरों और मौसिकी को 
नासमझते हुए वाह वाह करना 
दिन के दिये के बुझते ही 
इंतजार करना नई किताब,रिसालों,कॅामिकस के साथ मिठाई , फरुट का
लालच और डर से अच्छे बच्चे बनने की एकटिंग करना 
तो कभी उनके सिगरेट के धुंए को पीते हुए 
चुपके से सबकी शिकायत करना 
हमेशा थोड़ा सा उनका झूठा 
उनकी प्लेट से चखा करना 
फिर एक दिन 
हर याद का अजनबी हो जाना 
उस बुलंद आवाज़ की खामोशी को सुनना 
और बेबसी देखना 
उनका बस देखते रहना 
किसी याद के चमकने पर 
उन आंखों में मलाल देखना
उन होंठों के लम्स को 
हथेली पर अब भी महसूस करना 
हमको अपना बंदी बनाकर 
7 जनवरी को उनका आजाद हो jaना!


Tahaffuz-security
Lams- Touch

No comments:

Post a Comment