Thursday, 3 March 2016

Awaaz...

स्याह रात की काली चादर ने
बस्ती को ऐसे ढांप रखा था
जैसे कोई माँ दुनिया के हर एक ख़ौफ़ से
अपने आंचल में छुपा ले
अपने मासूम बच्चों को ..

और उस पार कड़कती बिजलियों की हुंकार
बारिश की बढ़ती थमती रफ़्तार
और अँधेरे में सुलगते हुए सिगरेट की
मौहूम* सी रौशनी में  (*हलकी )
बातें करती एक आवाज़

मेहरबान कभी बेरुखी दिखाती हुई
कुछ दूर से पास आती हुई
सिगरेट के कश में ज़िन्दगी उड़ाती हुई
अपने अंदाज़ में सुनाती हुई
दास्तान ए ग़म ए  जहाँ
दास्तान ए दिल के किस्से

सन्नाटे में गूंजते रहे आवाज़ के साये
अजब बेख्वाबी के आलम में
सपने सच की कैफियत में
रात भर सुनते रहे हम उसको ..

आंख खुली तो देखा
सुबह के सूरज ने
रात की कहानियों के चिराग़ को
फूंकों से बुझा दिया था!
Syaah raat ki kaali chadar ne
Basti ko aise dhaanp rakha tha
Jaise koi Ma Duniya ke har ek khauff se
Apne anchal me chhupa le
Apne masoom bachcho ko..

Aur us paar kadakti bijliyon ki hunkar
Baarish ki badhti thamti raftaar
Aur andhere me sulagte hue Cigarette ki
Mauhoom* si roshni me (*halki)
Baatein karti ek Awaaz

Meherban Kabhi berukhi dikhati hui
Kuch duur se paas aati hui
Cigarette ke kash me zindagi udati hui
Apne andaz me sunati hui
Dastaan e gham e jahan
Dastaan e dil ke kisse

Sannate me goonjte rahe awaaz ke saaye
Ajab bekhwabi ke aalam me
Sapne sach ki kaifiyat me
Raat bhar sunte rahe hum usko..

Ankh khuli to dekha
Subah ke sooraj ne
Raat ki Kahaniyon ke chiragh ko
Phoonkon se bujha diya tha!

No comments:

Post a Comment